लखनऊ : बड़ा खुलासा, बढ़ सकती है मुख्य आरोपी सिपाही की मुश्किलें

लखनऊ, चर्चित विवेक तिवारी हत्याकांड में विशेष जांच दल (SIT) ने चौंका देने वाला खुलासा किया है। मामले की जांच कर रही SIT की टेक्निकल सपोर्ट टीम ने मंगलवार को कहा कि घटना वाली रात विवेक की गाड़ी ने आरोपी सिपाही की बाइक को टक्कर नहीं मारी थी।

विवेक तिवारी हत्याकांड में SIT के इस खुलासे के बाद केस में नया मोड़ आ गया है। यह खुलासा इतना अहम इसलिए है क्योंकि आरोपी सिपाही प्रशांत ने अपने बयान में लगातार यही कहा है कि, उस रात विवेक ने अपनी गाड़ी उनपर चढ़ाने की कोशिश की थी जिसके बाद बचाव में उन्हें गोली चलानी पड़ी थी।


SIT के खुलासे के बाद अब ऐसे में यह सवाल खड़ा होता है कि, घटना वाली रात जब विवेक ने उनपर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश ही नहीं की तो किन परिस्थितियों में आरोपी सिपाही ने उसपर गोली चलाई। जाहिर सी बात है इस सवाल का जवाब गोली चलाने वाला आरोपी प्रशांत ही जानता है। अपने सभी सवालों के लिए अब पुलिस प्रशांत से पूछताछ करेगी।

मामले की जांच कर रही UPSRTC की तकनीकी टीम ने विवेक की कार और सिपाही के बाइक की बारीकी से जांच की लेकिन उन्हें कहीं भी दोनों गाड़ियों के टक्कर लगने के सबूत नहीं मिले। UPSRTC की टीम ने अपने जांच में यह पाया कि उसरात ऐसा कुछ नहीं हुआ जैसा आरोपी सिपाही ने अपने बयान में कहा है। UPSRTC की तकनीकी टीम ने दी SIT टीम को इस बात की जानकारी दी है।

उधर, खुफिया सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक उत्तर प्रदेश में अंदर ही अंदर आरोपी सिपाही प्रशांत के समर्थन में सिपाहियों द्वारा विद्रोह करने की बात सामने आई है। मीडिया रिपोर्ट्स को मिली एक चिट्ठी में चौंका देने वाला खुलासा सामने आया है। इस चिट्ठी को उपर लिखा है परम गोपनीय, यानी टॉप सीक्रेट लेटर। इसमें तमाम पुलिस थानों को आगाह करते हुए लिखा है कि डिपार्टमेंट में बगावत की आग सुलग रही है।

English
English