केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से अवार्ड दिलाने के नाम पर 25 डॉक्टरों से ठगी

दिल्ली, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री से पांच सितारा होटल में नेशनल हेल्थ केयर अवार्ड से सम्मानित कराने का झांसा देकर करीब 25 डॉक्टरों से ठगी करने वाले गिरोह का भंडाफोड़ कर ओखला थाना पुलिस ने करीब आधा दर्जन ठगों को गिरफ्तार किया है।

गिरफ्तार आरोपियों में बेरोजगार एमटेक डिग्री धारक समेत अन्य आरोपी शामिल हैं। गिरोह के सारे सदस्य झारखंड का रहने वाले हैं और सरगना एमटेक कर चुका है। इस ठगी का खुलासा तब हुआ जब दिल्ली, हैदराबाद, बेंगलुरू, राजस्थान आदि जगहों से इकट्ठे हुये डॉक्टर एक फाइव स्टार होटल में पहुंचे थे।

गिरफ्तार आरोपियों की पहचान रामेंदर कुमार राज, मो. सरफराज, मो. रिजवानुल जामा, अमृत साव, दीपक कुमार और स्वाती प्रिया के रूप में हुआ है। साऊथ-ईस्ट के डीसीपी चिन्मय बिस्वाल ने बताया कि गिरोह के सदस्यों ने सभी डॉक्टरों को स्वास्थ्य मंत्री से अवार्ड दिलाने के नाम पर सात अक्तूबर को ओखला इलाके में स्थित होटल क्राउन प्लाजा में बुलाया था।

जिस इगनाइटिड इडूबड्र्स नामक कंपनी ने इस कार्यक्रम को रखा था। उसने डॉक्टरों को केंद्रीय मंत्री से सम्मानित करवाने की बात कही थी। इसके लिए बाकायदा विज्ञापन तक जारी किया गया था ताकि मीडिया एजैंसियों का ध्यान भी इस ओर आ सके। उन्होंने बताया कि सभी आरोपी हजारीबाग, झारखंड के रहने वाले हैं।

अवार्ड दिलाने के नाम पर 15 से 50 हजार तक लिए थे आरोपियों ने
अवार्ड लेने के लिए जब सभी राज्यों के डॉक्टर होटल में पहुंचे तो न तो वहां पर कोई मंत्री आने वाले हैं न ही कोई औरव्यक्ति। चीफ गेस्ट के तौर हरियाणा के एक लोकल सिंगर को बुलाया गया था। इस बात की जानकारी होते ही सारे डॉक्टर हंगामा करने लगे और कंपनी के डायरेक्टर रमेंदर कुमार राज व उनके पांच अन्य सहयोगियों के खिलाफ पुलिस में शिकायत दी। उन्होंने बताया कि 15 से 50 हजार रुपए ऑनलाइन बैंकिंग के जरिये उनसे लिए गये थे।

इसके बाद पुलिस ने रमेंदर, उनके पिता, पत्नी और साले समेत छह लोगों को गिरफ्तार कर लिया। पूछताछ में इन्होंने बताया कि कुछ समय पहले ऐसे ही कुछ टीचर्स को भी चूना लगाया था। लेकिन उस मामले में किसी ने शिकायत दर्ज नहीं करवाई थी। सभी आरोपियों ने लग्जरी लाइफ जीने की चाहत में इस ठगी को अंजाम दिया था।

English
English