पार्टनर ने लाखों की सुपारी देकर कराई थी रागिनी गायिका सुषमा की हत्या

गौतमबुद्ध नगर. गौतबुद्ध नगर (Gautam Budh Nagar) जिले के ग्रेटर नोएडा में हुई रागिनी गायिका सुषमा (Ragini Singer Sushma) की हत्या के मामले में चौंकाने वाला खुलासा हुआ है. लिव इन पार्टनर (Live In Partner) गजेंद्र भाटी ही सुषमा की हत्या का मास्टरमाइंड निकला. गजेंद्र ने ही आठ लाख रुपए की सुपारी देकर रागिनी गायक की हत्या कराई थी. पुलिस ने प्रेमी गजेंद्र समेत 6 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया है. प्रेमी गजेंद्र रागिनी गायिका सुषमा के चरित्र पर शक करता था. उसने बीते एक अक्टूबर को भाड़े के 2 शूटरों से रागिनी गायिका सुषमा की हत्या करा दी थी. शूटरों ने सुषमा को 5 गोलियां मारी थीं. पुलिस ने बदमाशों के कब्जे से पिस्टल, फॉर्च्यूनर गाड़ी और बाइक बरामद की है. बीटा 2 थाना और स्पेशल स्टार 2 की टीम ने इस हत्याकांड का खुलासा किया है.




पुलिस ने बताया कि दोनों बदमाशों से जब पुलिस ने पूछताछ की तो पता चला कि यह हत्या सुषमा के लिव-इन पार्टनर गजेंद्र भाटी एवं उसके साथियों द्वारा आठ लाख की सुपारी देकर करवाई गई थी. पुलिस ने त्वरित कार्रवाई करते हुए सुषमा के लिव-इन पार्टनर गजेंद्र भाटी, उसके ड्राइवर अमित, उसके चचेरे भाई अजब सिंह तथा साथी प्रमोद मेहसाना को गिरफ्तार कर लिया है. ग्रेटर नोएडा की मित्रा सोसाइटी में रहने वाली रागिनी गायिका सुषमा ने 4 साल पहले पति से अलग होकर खुशहाल जिंदगी जीने के लिए जिस प्रेमी को चुना था, उसी ने ही सुषमा के खून से अपने हाथ रंग लिए. गजेंद्र और सुषमा के प्यार और विश्वास के रिश्ते में शक ने अपनी जगह मजबूत बना ली और यहीं से सुषमा को रास्ते से हटाने की प्लानिंग शुरू हुई.

ग्रेटर नोएडा पुलिस को उस समय बड़ी सफलता हाथ लगी जब पुलिस ने घटनास्थल मित्रा सोसाइटी में लगे सीसीटीवी कैमरे को खंगालना शुरू किया तो हत्याकांड के तार लिव इन पार्टनर गजेंद्र भाटी से जुड़ गए. तफ्तीश आगे बढ़ी तो पुलिस के रडार पर गजेंद्र भाटी के साथ साथ उसके सह अभियुक्त अजब सिंह, प्रमोद और अमित आ गए. पुलिस ने जब सख्ती से पूछताछ की तो पुलिस को चौंकाने वाली कई जानकारियां हाथ लगी.

पुलिस पूछताछ में पता चला कि गजेंद्र भाटी ने अपने तीन साथियों के साथ मिलकर भाड़े के दो शूटरों को 8 लाख रुपए की सुपारी देकर रागिनी गायिका सुषमा की हत्या करने की पूरी प्लानिंग मित्रा सोसाइटी में ही रची थी, इसके लिए उसने शूटर मुकेश और संदीप को किराए का मकान भी इसी सोसाइटी में दिलवाया था, जिससे हत्या की पूरी प्लानिंग सटीक तरीके से की जा सके. पुलिस की मानें तो शूटर मुकेश के खिलाफ दो दर्जन से ज्यादा मुकदमे दर्ज हैं और इसके अलावा दूसरे शूटर संदीप का भी अपराधिक इतिहास बताया जा रहा है.